एक अफवाह कितनी खतरनाक हो सकती है ?

अफवाह जिसकी शुरुवात एक मजाक, एक खेल, एक धृष्टता से शुरू हो सकती है। और इसे शुरू करने वाले को शायद इस बात का अंदाजा तक नहीं होता है कि कितनी तबाही मचा सकती है।

एक अफवाह कितनी खतरनाक हो सकती है ?
एक अफवाह कितनी खतरनाक हो सकती है ?
इस सोशल मीडिया के ज़माने में किसी चीज को फैलने में वक्त नहीं लगता है। फिर चाहे चीजे अच्छी हो या बुरी। एक शोध के अनुसार अफवाह किसी सच्चाई के मुकाबले अत्याधिक गति से फैलता है । एक अफवाह किसी की जिंदगी को समाप्त को बड़ी आसानी से समाप्त कर सकता है । इंटरनेट पार ऐसे कई उद्धरण है जहा एकक अफवाह के चलते कितनो की जाने गयी । और  विशवास कीजियेगा कि अफवाह फ़ैलाने वालो को  इस बात का अंदेशा भी नही था कि ये कितना महंगा शाबित होगा।

हालही में, कोरोना महामारी में ऐसे बहुत से अफवाहों ने जन्म लिया जिसका वास्तविकता में कोई आधार नही है। ऐसे ही एक अफवाह कि "शराब Covid-19 को मर देता है" के कारन ईरान में रातो रत 27 लोगो की अल्कोहल पोइजनिंग की वजह से मौत हो गयी।  अब इस बात का जीम्मेदार किसे मना जा सकता था क्युकी इसे फ़ैलाने वाला कोई एक नहीं था ।



ऐसे ही मेक्सिको में, बिना जांच के लोगो ने दो व्यक्तीयो को जिन्दा जला दिया । उन पर बच्चो को अफवाह करने का आरोप था जो केवल एक व्हाट्सप्प से फैलाई गयी अफवाह थी। ऐसे कई और उदहारण है।

इस समय भारत सहित पूरा विश्व एक महामारी से जूझ रहा है । सारे विश्व के संगठन एक साथ, इसका इलाज  ढूंढ रहे है। ऐसे स्थिति में एक अफवाह, एक जान-माल की हानि का कारन बन सकती है ।



भारत के एक जिम्मेदार नागरिक की हेशियत से, आप सब से अनुरोध है की किसी प्रकार की अफवाह को बिना जांच किये ना माने और न पंख न दे । पूरी पृथ्वी इस समय ऐसे हालत में नहीं है कि कोई दर्द झेल सके। घर पर रहे, सुरक्षित रहे ।          

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © TrooTHerr - Best Articles to Read. Designed by OddThemes